Panic Vs Anxiety: पैनिक अटैक और एंजायटी अटैक में है बड़ा अंतर, यहां जाने इससे उभरने के तरीके 

Panic Vs Anxiety – समाज में दिन-ब-दिन दिमाग से जुड़ी बीमारियों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में हार्ट अटैक और अन्य बड़ी बीमारियां देखने को मिल रही है। आम तौर पर लोग पैनिक अटैक और एंजायटी अटैक को एक ही समस्या समझते हैं। आज हम आपको बताएंगे इन दोनों तरह के अटैक में कितना बड़ा अंतर है। हम आपको बताएंगे दैनिक अटैक और एंजायटी अटैक क्या होते हैं और इसे निपटने की क्या तरीका हो सकते हैं।

एक साधारण मानव के जीवन पर मेंटल हेल्थ बहुत प्रभाव डालते हैं। मेंटल हेल्थ का सीधा असर हृदय और शरीर के मुख्य अंग से होता है। इसलिए अगर आप शरीर में पैनिक अटैक या फिर एंजायटी अटैक महसूस करते हैं तो आपको हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इस प्रकार की समस्याओं से जान का खतरा भी हो सकता है। इसीलिए डॉक्टरों द्वारा हमेशा टेंशन फ्री रहने और खुश रहने के लिए सलाह दी जाती है।

⬇️ Download Bihar Help Mobile App📱
Jobs & शिक्षा से जुड़ी सभी जानकारी ! (यहाँ Click करें 👆)

PANIC VS ANXIETY

Panic Vs Anxiety: पैनिक अटैक और एंजायटी अटैक में है अंतर



सबसे पहले तो आपको बता दे पैनिक अटैक और एंजायटी अटैक दोनों मेंटल हेल्थ से संबंधित बड़ी बीमारियां है। इन दोनों ही प्रकार की समस्याओं में हृदय संबंधी रोग यानी कि हार्ट अटैक होने की संभावना बढ़ जाती है। अक्सर लोग पैनिक अटैक और एंजायटी अटैक को एक ही समझते हैं सिस्टम हालांकि आपको बता दे यह दोनों चीज समान नहीं होती है।

पैनिक अटैक | Panic Attack

  • पैनिक अटैक एक ऐसा अटैक है जो कुछ सेकंड से लेकर कुछ मिनट तक ही रहता है।
  • आमतौर पर पैनिक अटैक में टेंशन की तीव्रता इतनी अधिक होती है कि कुछ मिनट में शुरू होकर 1 घंटे तक इसका समापन हो जाता है।
  • पैनिक अटैक से ग्रसित मस्तिष्क हमेशा अपने प्राणों को लेकर चिंतित रहते हैं सिस्टम इस परिस्थिति में मरीज को अपने जान जाने का भी खतरा बना रहता है।
  • केवल इतना ही नहीं बल्की मरीज को हृदय संबंधी रोग जैसे कि हार्ट अटैक की संभावना से भी डर लगता है।
  • पैनिक अटैक होने का सबसे बड़ा लक्षण सांस लेने में कठिनाई और दिल धड़कने में समस्या होना है।
  • पैनिक अटैक एक ऐसा अटैक है जिसे आप लोगों पर महसूस कर सकते हैं।

Also Read



एंजायटी अटैक | Anxiety Attack

  • एंजायटी अटैक एक ऐसा अटैक है जो कुछ मिनट में शुरू होता है पर कुछ घंटे या फिर कुछ दिनों तक अपना असर दिखाता है।
  • एंजायटी अटैक में टेंशन बनने की तीव्रता बहुत धीरे होती है इसलिए यह लंबे समय तक शरीर से जुड़ी रहती है।
  • एंजायटी अटैक में मरीज को जान जाने का कोई डर नहीं होता है और ना ही हार्ट अटैक या फिर बीपी जैसी समस्याएं होने का खतरा होता है।
  • जैसे कि हमने आपको बताया एंजायटी अटैक लंबे समय तक रहता है इस वजह से इसमें जान जान जैसी कोई समस्या मरीज को नहीं घेरती है।
  • एंजायटी अटैक में मरीज को सांस लेने में कोई समस्या नहीं होती है ना ही हृदय में किसी प्रकार का दर्द महसूस होता है।
  • एंजायटी अटैक कभी वातावरण के अनुसार काम तो कभी ज्यादा होते हैं इसलिए इसे महसूस करना और पकड़ना मुश्किल है।

निष्कर्ष

इस लेख मे हमने आपको Panic Vs Anxiety के बारे मे पूरी जानकारी दी है जिसे पढ़ कर आप आसानी से समझ पाए होंगे की इसमे क्या अंतर होता है और आप किस तरह अपने जीवन को इसकी मदद से बेहतर बना सकते है। इसके बारे मे पूरी जानकारी अच्छे से बताई गई है।

Related Posts

Updated: 03/12/2023 — 11:36 AM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *