Loan Pre-Payment Tips: टाइम से पहले लोन भरने के फायदे और नुकसान को जरूर जान

Loan Pre-Payment Tips – बहुत सारे लोग सैलरी खत्म होने के बाद अपनी जरूरत को पूरा करने के लिए लोन लेते है। इस तरह के लोन को पर्सनल लोन कहा जाता है और यह भारत में सबसे ज्यादा उपयोग में लिए जाने वाली वित्तीय सहायता है। ज्यादातर लोग अपने पर्सनल लोन कर रही पेमेंट समय पर नहीं कर पाते हैं और इस वजह से परेशानी में फंस जाते है। इन सभी कारणों की वजह से पर्सनल लोन पर लगने वाला ब्याज काफी अधिक होता है।

LOAN PRE-PAYMENT TIPS

⬇️ Download Bihar Help Mobile App📱
Jobs & शिक्षा से जुड़ी सभी जानकारी ! (यहाँ Click करें 👆)

अगर आप अपने पर्सनल लोन पर ज्यादा ब्याज नहीं देना चाहते तो समय से पहले आपको पेमेंट करना चाहिए। इसके लिए पर्सनल लोन पर प्री पेमेंट का ऑप्शन मिलता है, अगर आप समय से पहले लोन चुकाने का ऑप्शन चुनते हैं तो आपको निश्चित कुछ फायदे होते है। लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है, इसलिए आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि इसके क्या फायदे और नुकसान हो सकते हैं।

Loan Pre-Payment Tips – Overview

Name of Post Loan Pre-Payment Tips
Type of Article Financial
Loan Prepayment Some tips are given below
Benefits You Easily able to Repay the Loan
Years 2023

Must Read

Loan Pre-Payment Tips | लोन प्रीपेमेंट करने पर बैंक वसूलते हैं चार्ज

बैंक प्री पेमेंट या फिर लोन का पैसा पहले देने की स्थिति में बैंक आपसे चार्ज वसूलती है। यह एक आम चार्ज होता है जब आप समय से पहले लोन का पेमेंट करते हैं तो आपको प्री कोलेजर चार्ज देना होता है। यह आपका बकाया लोन राशि के 1% से 5% के बीच होता है जो अलग-अलग बैंक में अलग-अलग हो सकता है। यह एक बहुत ही छोटा चार्ज होता है जिसे देने के बाद आपको ईएमआई से छुटकारा मिल जाता है।



अगर आपने अच्छे खासे रकम का पर्सनल लोन लिया है तब प्री पेमेंट करना फायदेमंद होता है। इससे आपका ईएमआई के झंझट खत्म हो जाता है और उसे पर लगने वाले चार्ज भी खत्म हो जाते हैं।

प्री पेमेंट का क्रेडिट कार्ड पर असर

आपके लोन का प्री पेमेंट आपकी क्रेडिट स्कोर पर बहुत अच्छा प्रभाव डालता है। लेकिन यह स्थिति अलग-अलग बैंक में अलग-अलग हो सकती है। देखिए अगर आप अपने क्रेडिट स्कोर को सुधारना चाहते हैं तो समय पर ईएमआई भुक्तान करे, इसके अलावा लोन का प्री पेमेंट आपके क्रेडिट स्कोर को बढ़ाता है। लेकिन कभी-कभी इसके लिए कुछ एक्स्ट्रा पेमेंट भी देना पड़ जाता है जो छोटे-मोटे लोन के लिए अच्छी बात नहीं है।

लोन का पेमेंट दिखता है कि आपकी देनदारी कितनी है। अगर आपकी देनदारी काम है तो कोई भी बैंक लोन देने से पहले सोचेगा लेकिन अगर आपकी देनदारी मजबूत है समय पर या समय से पहले आप पैसा देने को तैयार खड़े हैं तो कोई भी आपको लोन आसानी से देगा।

फ्री पेमेंट से कब होता है फायदा और कब नुकसान

समय से पहले पैसा चुकाना अच्छी बात है लेकिन इसमें भी ज्यादा फायदा कब होगा और कब फायदा नहीं होगा यह समझना जरूरी है। यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप फ्री पेमेंट का ऑप्शन कब चुनते है। अगर आप अपने लोन का बहुत बड़ा हिस्सा चुकाने के बाद प्री पेमेंट का ऑप्शन चुनते हैं तो आपको कोई खास लाभ नहीं होगा। क्योंकि इस समय तक आप ईएमआई के रूप में अपने लोन का अधिकतम ब्याज चुका चुके होंगे।



इसके अलावा जब आप फ्री पेमेंट का ऑप्शन चुनते हैं तब प्री-क्लोज़र चार्ज भी देना होता है। इसलिए सबसे उच्चतम समय तब माना जाता है जब अपने आधा लोन ईएमआई से चुकाया हो। उसके बाद आप फ्री पेमेंट का ऑप्शन चुनेंगे तो आपको काफी लाभ मिलेगा या फिर शुरुआत में ही अगर आप फ्री पेमेंट का ऑप्शन चुने तो आपको ज्यादा अधिक लाभ होगा।

निष्कर्ष

हमने सभी अभिभावकों को सरल शब्दों में यह समझाने का प्रयास किया है कि लोन का प्री पेमेंट कब करना चाहिए और किस प्रकार आप आसानी से घर बैठे Loan Pre-Payment Tips से समझ सकते हैं कि लोन का प्री पेमेंट कब आपके लिए लाभदायक है और कब आपके लिए लाभदायक नहीं है।

Related Posts

Updated: 20/01/2024 — 9:51 PM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *