Swadesh Darshan Scheme 2023 | जानें क्या है स्वदेश दर्शन योजना?

Swadesh Darshan Scheme 2023: –दोस्तों भारतवर्ष में बहुत से पर्यटक स्थल मौजूद है जहां पर देशभर से लोग घूमने के लिए आते हैं। भारत में बहुत से ऐसे पर्यटक स्थल भी है जहां पर अपने देश से ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया से लोग घूमने के लिए आते हैं। भारत में टूरिज्म की मदद से देश भर में बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी मिला हुआ है।टूरिज्म की मदद से भारत में लगभग 8.72% लोगों को रोजगार मिला हुआ है तथा टूरिज्म का भारत की जीडीपी में लगभग 6.3% का योगदान है।

Swadesh Darshan Scheme 2023

  • प्रधानमंत्री स्वदेश दर्शन स्कीम के तहत भारत सरकार सभी राज्य सरकारों तथा केंद्र शासित प्रदेश एवं स्थानीय प्रशासन की सहायता से सभी टूरिस्ट स्थल पर अधिक से अधिक  इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करेगी तथा उपलब्ध संसाधनों का अधिक से अधिक इस्तेमाल करके टूरिज्म की सहायता से धन अर्जित करेगी।

                       Swadesh Darshan Scheme 2023 Highlight

योजना का नाम Swadesh Darshan Scheme 2023
योजना शुरू की गई वर्ष 2014-15 में
योजना का उद्देश्य टूरिज्म इंडस्ट्री को बढ़ावा देना
योजना  संचालित की जा रही है केंद्र कार द्वारा
योजना के लिए अनुमानित लागत 2048 करोड़ रुपए
पहले चरण में कितने स्थान का चुनाव किया गया है 15 शहरों का
संबंधित मंत्रालय पर्यटन मंत्रालय 
योजना के अंतर्गत कुल कितने सर्किट बनाए गए हैं 15 विषयगत सर्किट
संबंधित अधिकारिक वेबसाइट https://tourism.gov.in/index.php/hi




⬇️ Download Bihar Help Mobile App📱

Jobs & शिक्षा से जुड़ी सभी जानकारी ! (यहाँ Click करें 👆)
  • इस योजना की परिकल्पना स्वच्छ भारत अभियान, स्किल इंडिया, मेक इन इंडिया आदि जैसे अन्य योजनाओं के साथ तालमेल बिठाने के लिए की गई है,इस योजना के शुरू हो जाने से बड़े पैमाने पर रोजगार का सृजन होने की संभावना जताई जा रही है। किसी भी देश के विकास के लिए वहां का टूरिज्म इंडस्ट्री का विकसित होना अत्यंत आवश्यक होता है क्योंकि टूरिज्म की मदद से वह देश विदेशी मुद्रा को अर्जित कर पाता है।
  • इस योजना को वर्ष 2014-15 में देश में  एक थीम आधारित पर्यटन सर्किट के एकीकृत विकास करने के लिये शुरू किया गया था। स्वदेश दर्शन योजना के तहत पंद्रह विषयगत सर्किटों की पहचान की गई है जैसे- बौद्ध सर्किट, तटीय सर्किट, डेज़र्ट सर्किट, इको सर्किट, हेरिटेज सर्किट, हिमालयन सर्किट, कृष्णा सर्किट, नॉर्थ ईस्ट सर्किट, रामायण सर्किट, ग्रामीण सर्किट, आध्यात्मिक सर्किट, सूफी सर्किट, तीर्थंकर सर्किट, जनजातीय सर्किट, वन्यजीव सर्किट इत्यादि सर्किट है।

आज के लेख में हम इन सभी के बारे में आपको विस्तार से जानकारी देंगे तो दोस्तों जुड़े रहे हमारेसाथ योजना से संबंधित पूरी जानकारी के लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

Swadesh Darshan Scheme 2023

बिना कहीं अटके बैंक में आने लगेगा सरकारी मदद का पैसा, कभी खाली नहीं रहेगा किसान का खाता?

स्वदेश दर्शन योजना 2023  क्या है?

देश के भीतर क्षेत्रीय पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से वर्ष 2014-15 में इस योजना को  शुरू की गई थी इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार राज्य सरकार केंद्र शासित प्रदेश तथा स्थानीय प्रशासन की मदद से स्थानीय स्तर पर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए  कार्य करेगी। हाल ही में केंद्रीय  पर्यटन मंत्रालय ने स्वदेश दर्शन योजना को स्वदेश दर्शन 2.0 के रूप में संशोधित किया है जिसका उद्देश्य गंतव्य पर अस्थाई और जिम्मेदार बुनियादी ढांचा विकसित करना है। इस योजना को वर्ष 2014 15 में देश में थीम आधारित पर्यटन सर्किट के एकीकृत विकास के लिए शुरू किया गया था इस योजना के अंतर्गत 15 विषयगत सर्किटओं की पहचान की गई है।

यह केंद्र सरकार द्वारा 100% वित्त पोषित है और केंद्र एवं राज्य सरकारों की अन्य योजनाओं के साथ मिलकर कार्य करने हेतु तथा केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और कारपोरेट फील्ड की कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी पहल के लिए उपलब्ध वित्त पोषण का लाभ उठाने के लिए इस योजना को अमली जामा पहनाया जा रहा है। 




प्रधानमंत्री स्वदेश योजना का उद्देश्य-

  •  भारत वर्ष के भीतर  पर्यटन को आर्थिक विकास और रोजगार सृजन की प्रमुख इंजन के रूप में विकसित करना
  • योजना को  सुनियोजित और प्राथमिकता के आधार पर पर्यटन क्षमता वाले सर्किट क्षेत्रों का विकास करना।
  • सर्किट गंतव्य में विश्वस्तरीय सुविधाओं को विकसित करके  पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनाना।
  • इस योजना के अंतर्गत पहचान किए गए क्षेत्रों में रोजगार उत्पन्न करने के लिए देश की संस्कृति और विरासत मूल्यों को बढ़ावा देना है।
  • योजना के अंतर्गत ही  आय के बढ़ते स्रोत तथा बेहतर होते जीवन स्तर और क्षेत्र के समग्र विकास के विषय में स्थानीय समुदाय में पर्यटन के प्रति लोगों में जागरूकता को बढ़ाना।
  • नए आने वाले पर्यटकों से फीडबैक लेकर मौजूदा इंफ्रास्ट्रक्चर को मॉडिफाई करके नए इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करना।

ये भी पढ़ें-

Patanjali Credit Card Apply Online – इस क्रेडिट कार्ड की मदद से 10,000 रुपयो से लेकर 5 लाख रुपयों तक का लाभ प्राप्त कर सकते है,

GST Registration की ऑनलाइन प्रक्रिया हुई शुरु, ऐसे करे पंजीकरण

स्वदेश दर्शन योजना 2023 की विशेषताएं-

  • स्वदेश दर्शन योजना 2023 की विशेषताएं निम्नलिखित है-
  •  स्वदेश दर्शन योजना के अंतर्गत सार्वजनिक वित्त पोषण हेतु  परियोजना घटकों के लिए 100% केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषण किया जाता है।
  •  स्वदेश दर्शन योजना के अंतर्गत केंद्रीय सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की उपक्रम तथा कारपोरेट क्षेत्र की कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी पहल के लिए उपलब्ध स्वैच्छिक धन का लाभ उठाने के लिए प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है।
  •  योजना के अंतर्गत 5 राज्यों में परियोजना को स्वीकृति प्रदान की गई है जो है, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड तथा तमिलनाडु।
  • स्वदेश दर्शन योजना को पब्लिक फंडिंग के लिए शुरू किया गया था इस योजना में पूरी तरह से केंद्रीय वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है इस योजना में लगने वाली कुल लागत लगभग 2048 करोड रुपए है। 

Swadesh Darshan Scheme 2023

दर्शन योजना के अंतर्गत आने वाले स्थान के नाम-

स्वदेश दर्शन के अंतर्गत आने वाले स्थान  निम्नलिखित है-

  • अमृतसर (पंजाब)
  • वाराणसी (उत्तरप्रदेश)
  • कामाख्या (असम)
  • अमरावती (आंध्रप्रदेश)
  • पूरी (ओडिशा)
  • वेलान्कन्नी (तमिलनाडु)
  • केदारनाथ (उत्तराखंड)
  • मथुरा (उत्तरप्रदेश)
  • अजमेर (राजस्थान)
  • कांचीपुरम (तमिलनाडु)
  • द्वारका (गुजरात)
  • गया (बिहार)

स्वदेश दर्शन योजना 2021 के लक्ष्य-

  • स्वदेश दर्शन योजना के अंतर्गत पहचान किए गए थीम बेस सर्किट में इंफ्रास्ट्रक्चर इंटीग्रेटेड सिस्टम का विकास करना
  • प्रधानमंत्री स्वदेश दर्शन योजना के तहत ज्यादा से ज्यादा पर्यटक आने की वजह से संस्थानों को आर्थिक विकास में काफी हद तक सहायता मिलेगी।
  •  स्थानीय संस्कृति, कला, भोजन तथा हस्त शिल्पकार को भी बढ़ावा मिलेगा इससे बड़े पैमाने पर रोजगार पैदा होने की संभावना है।
  • प्रधानमंत्री स्वदेश दर्शन योजना  2021 के अंतर्गत दर्शन योजना के उद्देश्य में कुछ आधारभूत सुविधाओं का विकास को भी बढ़ावा दिया गया है जैसे जलमार्ग, रेल व्यवस्था, सड़क, अधिक पैमाने पर एटीएम  इत्यादि सुविधाओं का विकास किया गया है।

Swadesh Darshan Scheme 2023

स्वदेश दर्शन योजना 2022 (2.0) 

  • स्वदेश दर्शन योजना 2.0 मोकलसर लोकल के मंत्र के साथ स्वदेश दर्शन 2.0 नामक नई योजना का शुरुआत किया गया है इस योजना का उद्देश्य  पर्यटन के गंतव्य को पूरी क्षमता के साथ सरकार कर आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को प्राप्त करना है।
  •  स्वदेश दर्शन योजना 2.0 एक वृद्धि सील परिवर्तन नहीं होकर बल्कि स्थाई और जिम्मेदार पलटन स्थलों को विकसित करने के लिए स्वदेश दर्शन योजना को एक समग्र मिशन के रूप में विकसित करने हेतु महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं।

Quick Links




Official Website Click Here
Sbi Mudra Loan 50000 Online Click Here
PNB E Mudra Loan
Click Here
Join Our Telegram Group Click Here

ये भी पढ़ें-

इस योजना का लाभ कौन लोग ले सकते हैं?

जैसा कि योजना के नाम से ही स्पष्ट है कि देश के भीतर के पर्यटक स्थलों तक लोगों को पहुंचाया जाए जिससे बड़े पैमाने पर लोगों को अपने देश में उपस्थित प्रसिद्ध जगहों के बारे में जानकारी हो सके तथा वहां के स्थानीय लोगों को बड़े पैमाने पर रोजगार प्राप्त हो सके।

प्रधानमंत्री स्वदेश दर्शन योजना के अंतर्गत सरकार पर्यटक स्थल के आसपास किस प्रकार की बुनियादी ढांचे का विकास कर रही?

प्रधानमंत्री स्वदेश दर्शन के अंतर्गत पर्यटक स्थल के आसपास होटल, जल मार्ग, रेल मार्ग, हवाई अड्डा, इंटरनेट कनेक्टिविटी आदि को विकसित करके टूरिस्ट के लिए एक आकर्षण का केंद्र बनाना चाहती है। इसके लिए सरकार ने कुछ जगहों का चुनाव किया है इन स्थानों पर विश्व स्तरीय स्थित की जाएंगे जिससे इस क्षेत्र के आसपास बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा होंगे तथा देश, दुनिया में वह स्थान टूरिज्म के लिए प्रसिद्ध हो पाएगा।

Updated: 05/01/2023 — 10:55 AM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *