Fake MBA Course: सरकार ने दिया इस तरह के फेक एमबीए कोर्स से दूर रहने की सलाह

Fake MBA Course – बीते कुछ समय से MBA Course को लेकर काफी वाद विवाद यूट्यूब पर चल रहा है। लेकिन इसके अलावा भी बहुत सारे फेक एमबीए के केस सरकार के पास आ रहे है। इसको लेकर हाल ही में सरकार ने कुछ अलग-अलग नियम लागू किए हैं जिनके बारे में आपको पूरी जानकारी होनी चाहिए।

सरकार के ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन मंत्रालय के तरफ से एक नियम लागू किया गया है, जिसमें सरकार ने बताया है कि ऐसे किसी भी एमबीए कोर्स में एडमिशन न ले जो 2 साल से पहले कोर्स पूरा करने का वादा दे रहे हो।

⬇️ Download Bihar Help Mobile App📱
Jobs & शिक्षा से जुड़ी सभी जानकारी ! (यहाँ Click करें 👆)

यूट्यूब पर ऐसे बहुत सारे कोर्स आ चुके हैं जो आपको 2 साल से पहले कोर्स पूरा करने का वादा दे रहे हैं और कुछ कोर्स 10 दिन के अंदर ही एमबीए की डिग्री देने का वादा कर रहे है। आपको बता दे सरकार ने इसकी कड़ी तौर पर निंदा की है और बताया है कि 10 दिन के अंदर मिलने वाली किसी भी डिग्री को किसी भी रूप में मान्यता नहीं दी जाएगी इस वजह से इस तरह के कोर्स से आपको कोसों दूर रहना चाहिए।

Fake MBA Course

Fake MBA Course – Overview

Name of Post Fake MBA Course
course name Master in Business Administration (MBA)
Eligibility Anyone can get the important update
Update on Course Awareness on Fake MBA Course

Must Read

Fake MBA Course | बहुत सारे फेक एमबीए कोर्स आ गए हैं

एमबीए की मांग काफी तेजी से लोगों के बीच बढ़ रही है। बच्चों और कॉर्पोरेट के बीच एमबीए कोर्स की मांग को देखते हुए बहुत सारी कंपनी MBA Course प्रस्तुत कर रही है। लेकिन सरकार ने नोटिस के जारी करते हुए सभी विद्यार्थियों को इस तरह के कोर्स से सतर्क रहने की सलाह दी है।



एमबीए कोर्स का मतलब मास्टर इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन होता है। यह 2 साल का कोर्स होता है जिसे करने के बाद आप व्यापार के सभी दावं पेच को अच्छे से समझ पाते हैं और यह कोर्स आपको कॉरपोरेट बिजनेस में बड़े पद पर नौकरी दे सकता है। सरकार ने बताया कि इस तरह के कोर्स से आपको सतर्क होना चाहिए और केवल मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ही इसकी पढ़ाई करनी चाहिए।

विद्यार्थियों को क्रैश कोर्स दिया जा रहा है

सरकार ने एक नोटिस जारी करते हुए सभी विद्यार्थियों को सतर्क रहने की सलाह दी है। उन्होंने नोटिस में बताया कि बा का कोर्स किसी तकनीक के जरिए 10 दिन या 1 महीने में पूरा नहीं किया जा सकता है।

यह एक डिसिप्लिन पढ़ाई है जो आपको लगातार 2 साल तक करनी होती है। नोटिस में सरकार ने यह भी बताया है कि जल्दी पढ़ाई पूरा करने का कोई तरीका नहीं होता है। एमबीए की डिग्री में अगर आपको मानता चाहिए तो आपको 2 साल की पढ़ाई करनी होगी और किसी सरकारी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ही पढ़ाई करनी होगी।

आजकल यूट्यूब और अलग-अलग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर मोटिवेशनल स्पीकर और इनफ्लुएंसर जाकर लोगों को एमबीए पढ़ रहे हैं। आपको बता दे इस तरह का कोई भी क्रैश कोर्स मान्यता प्राप्त नहीं है इसके जरिए पढ़ाई करने पर आपका पैसा बर्बाद हो सकता है। बहुत सारे स्टूडेंट को एमबीए और बिजनेस की पढ़ाई के बहाने धोखा देकर पैसा हड़प जा रहा है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का दिया है हवाला

विभिन्न मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इंडियन काउंसिल आफ टेक्नोलॉजी एजुकेशन की मान्यता के बिना आप किसी भी डिग्री या कोर्स को मानता नहीं दे सकते है। सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को पूरी तरह से साफ किया है कि किसी भी टेक्निकल कोर्स जिसमें हर तरह के पोस्ट ग्रेजुएट और MBA Course जैसे मैनेजमेंट कोर्स शामिल है उन्हें आप बिना सरकारी मान्यता के पूरा नहीं करवा सकते है।



इसलिए सरकार ने पूरी तरह से साफ किया है कि किसी भी तरह का प्रचार प्रसार अगर आपको जल्दी कोई कोर्स पूरा करने को कहता है तो यह प्रचार केवल बरगलाने के लिए है। इस तरह की खबर केवल विद्यार्थियों को बरगलाने और बेवकूफ बनाने के लिए शुरू की गई है। कम समय में कोई भी कोर्स पूरा नहीं किया जा सकता है और कोई भी संस्था अगर आपको पोस्ट ग्रेजुएट या टेक्निकल या फिर वोकेशनल कोर्स करवा रही है तो उसके लिए पहले सरकार से परमिशन लेना जरूरी है और उसके बाद ही आप इस तरह के किसी कोर्स के साथ जुड़े अन्यथा इससे दूर रहें।

निष्कर्ष

हमने अपने सभी अभिभावकों को यह समझाने का प्रयास किया है (Fake MBA Course) कि आज के समय में बहुत सारे लोग कोर्स करवाने और पढ़ाई करवाने के नाम पर खूब सारा पैसा ठग रहे हैं इससे आपको सतर्क रहना चाहिए और सरकार की मान्यता और नियमों को समझने के बाद ही कहीं पैसा देना चाहिए अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी है तो इसे अपने मित्र और सभी सगे संबंधियों के साथ साझा करें।

Related Posts

Updated: 11/01/2024 — 9:22 AM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *