Chai Vikas Yojana 2023-24: चाय की खेती करने वाले किसानों को देगी पूरे 50% से 90% की सब्सिडी, जाने पूरी योजना और आवेदन प्रक्रिया?

Chai Vikas Yojana 2023-24:  क्या आप  भी  चाय उत्पादक किसान  है  और  अनुदान  प्राप्त करना चाहते है तो आपके लिए खुशखबरी  है कि,  योजना  के तहत अब आप सभी  चाय उत्पाद किसानो  को  पूरे  50% से लेकर 90% राशि  का  अनुदान  दिया जायेगा जिसकी हमं, आपको पूर विस्तृत जानकारी प्रदान करेगे जिसके लिए आपको ध्यानपूर्वक इस लेख को पढ़ना होगा।

BiharHelp App

दूसरी तरफ हम, आप सभी युवाओं को बता देना चाहते है कि, Chai Vikas Yojana 2023-24  मे आवेदन करने के लिए आपको  अपने साथ अपना DBT Registration Number  तैयार  रखना होगा ताकि आप आसानी से इस योजना मे आवेदन करके इस योजना का पूरा – पूरा लाभ प्राप्त कर  सके और अपना  सतत विकास सुनिश्चित कर सकें तथा

लेख के अन्त में हम,  आपको  क्विक लिंक्स  प्रदान करेगें ताकि आप आसानी से इसी प्रकार के आर्टिकल्स को प्राप्त करके इनका लाभ प्राप्त कर सकें।

Chai Vikas Yojana 2023-24

Read Also – Adhaar Card Helpline: आधार अपडेट के लिए मांगा जा रहा फालतू रुपया तो फटाफट यहां करें शिकायत, सीधे होगी कार्यवाही

Chai Vikas Yojana 2023-24

Chai Vikas Yojana 2023-24 : Overview

Name of the Portal Hosticulture Bihar Portal
Name of the Yojana Chai Vikas Yojana
Name of the Article Chai Vikas Yojana 2023-24
Type of Article Sarkari Yojana 
Who Can Apply All Farmers of Bihar Can Apply
Amount of Subsidy? 50% To 90%
Mode of Application Online
Detailed Information Please Read The Article Completely.

चाय की खेती करने वाले किसानों को देगी पूरे 50% से लेकर 90% की सब्सिडी, जाने पूरी योजना और आवेदन प्रक्रिया – Chai Vikas Yojana 2023-24?

हम, इस लेख मे आप  सभी  बिहार राज्य  के  चाय की खेती  करने वाले किसानोें का  हार्दिक स्वागत  करते हुए आपको विस्तार से Chai Vikas Yojana 2023-24   के बारे में बतायेगे जिसके तहत आवेदन करके आप आसानी से  सहायता अनुदान राशि / सब्सिडी  प्राप्त कर सकते है और इसीलिए हम, आपको इस लेख मे विस्तार से Chai Vikas Yojana 2023-24  के बारे में बतायेगे।



इसके साथ ही साथ हम,  आपको बता देना चाहते है कि, Chai Vikas Yojana 2023-24 के तहत आवेदन करने के लिए आप सभी  किसानो को ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया  को  अपनाते हुए आवेदन  करना होगा जिसमे आपको कोई समस्या ना हो इसके लिए हम, आपको पूरी  आवेदन प्रक्रिया  के  बारे मे बतायेगे ताकि आप इस योजना मे सुविधापूर्वक इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकें तथा

लेख के अन्त में हम,  आपको  क्विक लिंक्स  प्रदान करेगें ताकि आप आसानी से इसी प्रकार के आर्टिकल्स को प्राप्त करके इनका लाभ प्राप्त कर सकें।

Read Also –

किस अवयव हेतु कितना मिलेगा सहायता अनुदान – Chai Vikas Yojana 2023-24?

अवयव का नाम सहायता अनुदान राशि
चाय का नया क्षेत्र विस्तार इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 4.94

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50% (75.25 )
मौजूदा चाय बागान हेतु होॉस्टिकल्चर यंत्र इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

Pruning Machine इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 1.2

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50%
Mechanical Harvester इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 1

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50%
Plucking Shear इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 0.22

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50%
Leaf Carriage Vehicle ( LCV ) इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 15

हायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50%
Leaf Collection Shed इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 0.75

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50%
Power Spreyear ( Engine Operated ) इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 0.06

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 50%
Brush Cutter ( 3 To 5 BHP ) इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 0.4

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • UR – 40%
  • SC – 50%
Plastic Carates इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 0.004

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 90%
Nylon Bag इकाई लागत / हेक्टेयर / संख्या ( राशि लाख रुपय में )

  • ₹ 0.0002

सहायता अनुदान राशि प्रतिशत

  • 90%



Chai Vikas Yojana 2023-24 : योजना की मुख्य बातें क्या है?

अब हम, आपको इस योजना की कुछ अति मुख्य बातों  के  बातों के बारे में बताना चाहते है जो कि, इस प्रकार से हैं –

  • चाय विकास योजना अंतर्गत चाय क्षेत्र विस्तार किशनगंज जिला में वर्ष 2023-24 में क्रियान्वित किया जायेगा,
  • चाय के क्षेत्र विस्तार के लिए चाय के पौध रोपण सामग्री का क्रय स्वयं कृषक के द्वारा किया जायेगा। चाय की खेती करने वाले कृषकों को देय अनुदान दो किस्तों में 75:25 के अनुसार दिया जायेगा। इस घटक हेतु लाभुक कृषक को द्वितीय किस्त के रूप में पूर्व वर्ष में लगाए गए पौधे का 90 प्रतिशत पौधा जीवित रहने की स्थिति में वित्तीय वर्ष 2024-25 में प्रति हे॰ शेष देय 25 प्रतिशत राशि का भुगतान किया जाएगा,
  • मौजूदा चाय बागान एवं नया क्षेत्र विस्तार के प्रबंधन के लिए निम्नांकित हाॅर्टिकल्चर यंत्रों को इच्छुक कृषकों को उपलब्ध कराया जायेगा, जिसका विवरण निम्नवत् है:-
    ∎ प्रूनिंग मशीन:- इस मशीन को वैसे इच्छुक कृषक, जो न्यूनतम 5 एकड़(2 हेक्टेयर) में चाय की खेती कर रहे हों को अनुदानित दर पर उपलब्ध करायी जायेगी। प्रूनिंग मशीन हेतु वास्तविक मूल्य का 50 प्रतिशत/अधिकतम 60,000.00 रूपये दोनों में से जो कम होगा, अनुदान देय होगा।
    ∎ मेकैनिकल हार्वेस्टर:- इस मशीन को वैसे इच्छुक कृषक, जो न्यूनतम 5 एकड़(2 हेक्टेयर) में चाय की खेती कर रहे हों को अनुदानित दर पर उपलब्ध करायी जायेगी। मेकैनिकल हार्वेस्टर हेतु वास्तविक मूल्य का 50 प्रतिशत/अधिकतम 50,000.00 (पचास हजार) रूपये दोनों में से जो कम होगा, अनुदान देय होगा।
    ∎ प्लकिंग शियर:- इस मशीन को वैसे इच्छुक कृषक, जो न्यूनतम 5 एकड़(2 हेक्टेयर) में चाय की खेती कर रहे हों को अनुदानित दर पर उपलब्ध करायी जायेगी। प्लकिंग शियर हेतु वास्तविक मूल्य का 50 प्रतिशत/अधिकतम 11,000.00 (ग्यारह हजार) रूपये दोनों में से जो कम होगा, अनुदान देय होगा।
    ∎ लीफ कैरेज व्हेकिल:- इस मशीन को वैसे इच्छुक कृषक, जो न्यूनतम 10 एकड़(4 हेक्टेयर) में चाय की खेती कर रहे हों को अनुदानित दर पर उपलब्ध करायी जायेगी। लीफ कैरेज व्हेकिल हेतु वास्तविक मूल्य का 50 प्रतिशत/अधिकतम 7,50,000.00 (सात लाख पचास हजार) रूपये दोनों में से जो कम होगा, अनुदान देय होगा।
    ∎ लीफ कलेक्शन शेड:- इस मशीन को वैसे इच्छुक कृषक, जो न्यूनतम 5 एकड़(2 हेक्टेयर) में चाय की खेती कर रहे हों को अनुदानित दर पर उपलब्ध करायी जायेगी। लीफ कलेक्शन शेड हेतु वास्तविक मूल्य का 50 प्रतिशत/अधिकतम 37,500.00 (सैंतीस हजार पाँच सौ) रूपये दोनों में से जो कम होगा, अनुदान देय होगा।
    ∎ पॉवर स्प्रेयर मशीन तथा ब्रश कटर मशीन को इच्छुक कृषक आवश्यकतानुसार कृषि यांत्रिकरण योजना के तहत OFMAS पोर्टल पर आवेदन कर प्राप्त कर सकते हैं।
    ∎ प्लास्टिक क्रेट्स एवं नायलन बैग हेतु इच्छुक कृषक आवश्यकतानुसार मुख्यमंत्री बागवानी मिशन योजना के तहत उद्यान निदेशालय के वेबसाईट पर आवेदन कर प्राप्त कर सकते हैं।

उपरोक्त सभी बिंदुओं की मदद से हमने आपको इस योजना की मुख्य बातों के बारे में बताया ताकि आप इस योजना का पूरा – पूरा लाभ प्राप्त कर सकें।



How To Apply Online In Chai Vikas Yojana 2023-24?

हमारे सभी  बिहार राज्य  के किसान जो कि,  चाय विकास योजना  मे आवेदन करना चाहते है वे इन स्टेप्स को फॉलो करके आवेदन कर सकते है जो कि, इस प्रकार से हैें –

  • Chai Vikas Yojana 2023-24 मे ऑनलाइन आवेदन  करने के लिए सबसे पहले आपको इसकी Official Website  के होम – पेज पर आना होगा,
  • होम – पेज पर आने के बाद आपको चाय विकास योजना Chai Vikas Yojana 2023-24  के नीचे ही आपको आवेदन करें   का विकल्प मिलेगा जिस पर आपको क्लिक करना होगा,
  • क्लिक करने क्लिक करने के बाद आपके सामने कुछ इस प्रकार का पेज खुलेगा –

Chai Vikas Yojana 2023-24

  • अब यहां पर आपको किसान का DBT पंजीकरण संख्या   को दर्ज करना  होगा औऱ  सबमिट  के  ऑप्शन क्लिक करना होगा,
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने इसका  Application Form  खुल जायेगा जिसे आपको ध्यानपूर्वक भरना  होगा,
  • मांगे जाने वाले सभी दस्तावेजो को  स्कैन करके अपलोड  करना होगा औऱ
  • अन्त मे, आपको  सबमिट  के ऑप्शन  पर क्लिक करना होगा जिसके  बाद आपको आपके  आवेदन  की  रसीद  मिल जायेगी जिसे आपको  प्रिंट  करके  सुरक्षित   रखना होगा आदि।

उपरोक्त सभी स्टेप्स को फॉलो करके आप  आसानी इस योजना मे  आवेदन कर सकें और इस चाय विकास योजना  का लाभ प्राप्त करके अपना  सामाजिक व आर्थिक विकास  को  सुनिश्चित  कर सके।

सारांश

इस लेख में हमने, आप सभी बिहार राज्य  के  किसान भाई – बहनो  को विस्तार से ना केवल Chai Vikas Yojana 2023-24  के बारे में बताया बल्कि  हमने आपको पूरी  ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया  के बारे में बताया ताकि आप आसानी से इस  चाय विकास योजना  मे  आवेदन  कर सके और अपना  सतत व सर्वांगिन विकास सुनिश्चित  कर सकें तथा

लेख के अन्त में हमें, उम्मीद है कि,   आपको हमारा यह आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा जिसके लिए आप हमारे इस आर्टिकल को लाईक, शेयर व कमेंट करेगे।

Quick Links

Join Our Telegram Group Click Here
Direct Links To Apply Online Click Here

FAQ’s – Chai Vikas Yojana 2023-24

अल्मोड़ा में चाय विकास बोर्ड की स्थापना कब हुई?

चाय अधिनियम 1953 की धारा (4) के अनुसार 1 अप्रैल, 1954 को एक सांविधिक निकाय के रूप में चाय बोर्ड की स्थापना की गई थी। शीर्ष निकाय के रूप में, यह चाय उद्योग के समग्र विकास का ध्यान रखता है।

उत्तराखंड चाय विकास बोर्ड कहाँ है?

उत्तराखंड चाय विकास बोर्ड का मुख्यालय गैरसैंण में बनेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *