PM Swamitva Yojana 2022 : ई-ग्राम स्वराज पोर्टल ग्राम पंचायतों के पूर्ण डिजिटलीकरण की दिशा में एक कदम , जानिए पूरी प्रक्रिया

PM Swamitva Yojana 2022 : नमस्कार दोस्तों , स्वागत हैं आज आपका अपना हिंदी ब्लॉग Biharhelp.in में | आज मैं इस आर्टिकल के माध्यम से बात करूँगा PM Swamitva Yojana 2022 के बारे में | प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 अप्रैल को स्वामित्व योजना शुरू की। आप गांवों के घरों पर आसानी से बैंक ऋण प्राप्त कर पाएंगे। वास्तव में, पंचायत राज दिवस 2020 के अवसर पर लॉन्च किए गए प्रधानमंत्री की योजना (पीएम स्वामितवा योजना) के तहत आवासीय संपत्तियों को स्वामित्व देने की योजना में बहुत प्रगति हुई है।

कई राज्यों के गांवों के घरों का एक डिजिटल सर्वेक्षण भी शुरू हो गया है। ऐसी स्थिति में, गांवों में रहने वाले लोगों के लिए बड़ी राहत खबर है।

सभी उम्मीदवार जो ऑनलाइन आवेदन आवेदन करने के लिए तैयार हैं, फिर आधिकारिक नोटिफिकेशन डाउनलोड करें और सभी पात्रता मानदंड और आवेदन प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें। तो आइये इस आर्टिकल के माध्यम से इस योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकारी जैसे- योजना लाभ, पात्रता मानदंड, योजना की प्रमुख विशेषताओं, आवेदन की स्थिति, आवेदन प्रक्रिया आदि के बारे में नीचे पुरे विस्तार से बताया गया हैं , इसके लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़े |

PM Swamitva Yojana 2022

PM Swamitva Yojana 2022: Overview

योजना का नाम प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना
लांच किया गया पंचायती राज मंत्रालय, पीएम नरेंद्र मोदी
लाभार्थी भारत का नागरिक
प्रमुख लाभ आसानी से किसानों को ऋण
योजना का उद्देश्य देश भर में पंचायती राज संस्थानों में ई-गवर्नेंस को मजबूत करना
अधिकारिक वेबसाइट https://egramswaraj.gov.in/kosi study

 




‘स्वामीत्व’ योजना क्या है?

केंद्र सरकार की योजना राष्ट्रीय पंचायत दिवस (24 अप्रैल), 2020 पर शुरू की गई थी। पंचायती राज मंत्रालय इस योजना को लागू करने वाला नोडल मंत्रालय है। योजना का उद्देश्य ड्रोन सर्वेक्षण तकनीक के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि का सीमांकन करना है। यह ग्रामीण क्षेत्रों में घरों के मालिकों के स्वामित्व का रिकॉर्ड बनाएगा। वह इसका उपयोग बैंकों से ऋण लेने और अन्य उद्देश्यों के लिए कर सकता है।

यह भी पढ़े 

स्वामीत्व योजना ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया

ई-ग्राम स्वराज पोर्टल ग्राम पंचायतों के पूर्ण डिजिटलीकरण की दिशा में एक कदम है और भविष्य में यह एकल मंच बन जाएगा जो ग्राम पंचायतों द्वारा किए गए सभी कार्यों का रिकॉर्ड रखेगा। सभी विकास कार्यों का विवरण, उनके लिए आवंटित राशि, यह सारा डेटा पोर्टल पर उपलब्ध होगा। और इस मंच के माध्यम से ग्रामीण अपने मोबाइल फोन पर सभी डेटा तक पहुंच सकेंगे जिससे पारदर्शिता बढ़ेगी |




 

कैसे काम करेगी स्वामीत्व योजना?

  • ‘स्वामित्व’ योजना के तहत आवासीय भूमि की माप ड्रोन से की जाएगी।
  • ड्रोन गांव की सीमा के भीतर हर संपत्ति का डिजिटल मैप तैयार करेगा।
  • साथ ही हर राजस्व ब्लॉक की सीमा भी तय की जाएगी।
  • कौन सा घर किस क्षेत्र में है, इसे ड्रोन तकनीक से सटीक रूप से मापा जा सकता है।
  • राज्य सरकारें गांव के हर घर के लिए एक संपत्ति कार्ड बनाएगी।

स्वामीत्व योजना आवेदन पत्र 2022 ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

  • चरण 1- सबसे पहले स्वामीत्व योजना की आधिकारिक वेबसाइट यानी https://egramswaraj.gov.in/ पर जाएं।
  • चरण 2- होमपेज पर जाने के बाद “नया पंजीकरण” बटन पर क्लिक करें।
  • चरण 3- अब आपके सामने एक एप्लीकेशन फॉर्म खुलकर सामने आयेगा |
  • चरण 4- अब आवश्यक विवरण जैसे मूल विवरण, मोबाइल नंबर और मेल आईडी दर्ज करें।
  • चरण 5- आवेदन को अंतिम रूप से जमा करने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें और अपने डिवाइस में अपनी साख प्राप्त करें।

 




 

स्वामीत्व योजना का पात्रता मानदंड

  • जमीन के मालिक होने के सबूत के तौर पर ग्रामीण लोगों को मालिकाना हक दिया जाएगा।
  • जो लोग 25 सितंबर, 2018 को या उसके बाद आबादी वाली भूमि का उपयोग कर रहे हैं, उन्हें निम्नलिखित भूमि आवंटित की जाएगी, जिसके लिए वे भूमि स्वामित्व रिकॉर्ड प्राप्त करने के पात्र होंगे।
  • इस योजना के तहत, ग्रामीणों को उनकी संपत्ति के कब्जे का रिकॉर्ड और स्वामित्व प्रमाण पत्र मिलेगा।

 

स्वामीत्व योजना 2022 के उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण किसानों की भूमि का ऑनलाइन पर्यवेक्षण, भूमि का मानचित्रण और उनके सही मालिकों को उनका अधिकार देना, जमीनी प्रक्रिया में पारदर्शिता लाना है।

 




 

स्वामीत्व योजना 2022 के प्रमुख लाभ

  • यह योजना सभी ग्राम संपत्तियों का मानचित्रण करके ग्रामीण क्षेत्रों के तेजी से विकास को सक्षम करेगी।
  • ड्रोन प्रत्येक भारतीय गांव की भौगोलिक सीमा में आने वाली हर संपत्ति का डिजिटल नक्शा तैयार करेंगे।
  • संपत्ति कार्ड तैयार कर संबंधित स्वामियों को दिए जाएंगे।
  • यह योजना संपत्ति के विवादों को कम करने में मदद करेगी।
  • इससे ग्रामीणों को बैंक से कर्ज लेने में आसानी होगी।
  • यह सरकार को गांवों में ढांचागत कार्यक्रमों की प्रभावी योजना बनाने में सक्षम बनाएगा।
  • इस योजना के तहत ड्रोन सर्वेक्षण तकनीक की मदद से गांव के सीमांकित क्षेत्रों का सीमांकन किया जाएगा।

 




 

योजना की मुख्य विशेषताएं

  • सरकार के इस कदम से चार साल में करीब 6.62 गांवों को फायदा होगा.
  • इस योजना के तहत ग्रामीण भारत में संपत्ति संबंधी मामलों के वैध समाधान का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • नया ईग्राम ऐप गांवों में परियोजनाओं को योजना से पूरा करने में तेजी लाने में मदद करेगा जबकि स्वामित्व योजना गांवों में संपत्तियों के मानचित्रण में ड्रोन का उपयोग करेगी।
  • इस योजना के तहत गांवों और ग्रामीण क्षेत्रों में बसी हुई भूमि को मापने के लिए नवीनतम सर्वेक्षण तकनीक जैसे ड्रोन का उपयोग किया जाएगा।
  • सर्वे ऑफ इंडिया, राज्य राजस्व विभाग और राज्य पंचायती राज के सहयोग से मैपिंग व सर्वे कराया जाएगा
  • यह गांवों में भूमि के स्वामित्व का रिकॉर्ड बनाएगा और इन अभिलेखों से कर संग्रह, नई भवन योजना और परमिट जारी करने में और सुविधा होगी।

 




 

Important Links

Official website  Click Here
Registration Click Herekosi study
Login Click Herekosi study
Join Our Telegram Group Click Herekosi study

 




 

यह भी पढ़े 

 

सारांश 

मैं आशा करता हूँ की आपको मेरी यह जानकारी पसंद आई होगी , अगर आपको मेरी यह जानकारी पसंद आई होगी तो आप इसे लाइक करे और अप्नेदोस्तो , फॅमिली और ग्रुप में जरुर शेयर करे ताकि उन्हें भी इसकी जानकारी मिल सके |

धन्यवाद !!!

Updated: 15/06/2022 — 6:22 PM

Leave a Reply

Your email address will not be published.