Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022 : क्या है यह योजना और जानिए इसके आवेदन करने की प्रक्रिया

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022 : नमस्कार दोस्तों , स्वागत हैं आज आपका अपना हिंदी ब्लॉग Biharhelp.in में | आज मैं इस आर्टिकल के माध्यम से बात करूँगा Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022 के बारे में | अगर आप इस योजना के बारे में नहीं जानते हैं तो आप सही जगह पर आये हैं , यहाँ पर आपको इस योजना से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी प्रदान की जाएगी |

सिंचाई की सुविधा प्रदान करने के लिए सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाती है। इन योजनाओं के माध्यम से सिंचाई की सुविधा प्रदान करने के लिए बोरवेल और खुले कुओं की खुदाई की जाती है। हाल ही में कर्नाटक सरकार ने भी कर्नाक गंगा कल्याण योजना शुरू की है। इस योजना के माध्यम से सरकार बोरवेल या खुले कुओं को पंपों से ड्रिल करने जा रही है।

इस लेख में कर्नाटक गंगा कल्याण योजना के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं को शामिल किया गया है। इस लेख को पढ़कर आपको पता चल जाएगा कि आप इस योजना से कैसे लाभ उठा सकते हैं। इसके अलावा आपको उद्देश्यों, लाभों, सुविधाओं, पात्रता मानदंड, आवश्यक दस्तावेजों, आवेदन प्रक्रिया आदि के बारे में भी जानकारी मिलेगी।

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022: Overview

योजना का नाम कर्नाटक गंगा कल्याण योजना
लॉन्च किया गया कर्नाटक सरकार
लाभार्थी कर्नाटक के नागरिक
उद्देश्य सिंचाई सुविधाएं प्रदान करने के लिए
साल 2022
राज्य कर्नाटक
Official Website Click Here

 




 

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022

कर्नाटक अल्पसंख्यक विकास निगम ने कर्नाटक गंगा कल्याण योजना शुरू की है। इस योजना के माध्यम से, लाभार्थियों को कृषि भूमि पर बोरवेल की ड्रिलिंग या खुले कुओं की खुदाई के बाद पंप सेट और सहायक उपकरण की स्थापना करके सिंचाई की सुविधा मिलेगी। सरकार ने व्यक्तिगत बोरवेल परियोजना के लिए 1.50 लाख रुपये और 3 लाख रुपये आवंटित किए हैं।

इसके अलावा अन्य जिलों को 2 लाख रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाएगी। ये सुविधाएं पानी के स्रोतों से पाइपलाइन खींचकर और पंप मोटर्स और सहायक उपकरण स्थापित करके पास की नदियों के किसानों के स्वामित्व वाली भूमि को प्रदान की जाएंगी।

यह भी पढ़े 

 

कर्नाटक गंगा कल्याण योजना का उद्देश्य

कर्नाटक गंगा कल्याण योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को बोरवेल की ड्रिलिंग या खुले कुओं की खुदाई के बाद पंप सेट और सहायक उपकरण की स्थापना करके सिंचाई की सुविधा प्रदान करना है। यह योजना किसानों के लिए उचित सिंचाई सुविधा सुनिश्चित करेगी।

अब किसानों को बोरवेल लगाने के लिए सरकारी दफ्तरों में जाने की जरूरत नहीं है। वे इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं जिससे काफी समय और पैसा बचेगा और सिस्टम में पारदर्शिता भी आएगी। इसके अलावा इस योजना से फसलों की गुणवत्ता में भी सुधार होगा।

 




 

कर्नाटक गंगा कल्याण योजना के लाभ और विशेषताएं

  • कर्नाटक अल्पसंख्यक विकास निगम ने कर्नाटक गंगा कल्याण योजना शुरू की है।
  • इस योजना के माध्यम से लाभार्थियों को कृषि भूमि पर बोरवेल की ड्रिलिंग या खुले कुओं की खुदाई के बाद पंप सेट और सहायक उपकरण की स्थापना करके सिंचाई की सुविधा मिलेगी।
  • सरकार ने व्यक्तिगत बोरवेल परियोजना के लिए 1.50 लाख रुपये और 3 लाख रुपये आवंटित किए हैं।
  • यह राशि बोरवेल ड्रिलिंग, पंपसेट आपूर्ति और 50000 रुपये विद्युतीकरण जमा के लिए होगी।
  • बेंगलुरू शहरी, बेंगलुरु ग्रामीण, रामनगर कोलार, चिक्काबल्लापुर और तुमकुर जिले को 3.5 लाख रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • इसके अलावा अन्य जिलों को 2 लाख रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • ये सुविधाएं पानी के स्रोतों से पाइपलाइन खींचकर और पंप मोटर और सहायक उपकरण स्थापित करके पास की नदियों के किसानों के स्वामित्व वाली भूमि को प्रदान की जाएंगी।
  • 4 लाख की इकाई लागत 8 एकड़ भूमि तक तथा 15 एकड़ भूमि के लिए 6 लाख रुपये निर्धारित है।
  • योजना के तहत पूरी लागत सब्सिडी के रूप में मानी जाएगी।
  • सरकार पानी के बारहमासी स्रोतों के उपयोग या पाइपलाइनों के माध्यम से पानी उठाकर किसानों को उचित सिंचाई सुविधा प्रदान करने जा रही है।
  • केवल वही किसान जो अल्पसंख्यक समुदायों से संबंध रखते हैं और छोटे या सीमांत किसान हैं, वे ही इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।
  • यदि बारहमासी जल स्रोत उपलब्ध नहीं हैं तो निगम व्यक्तियों को जल बिंदुओं पर बोरवेल के निर्माण के लिए ऋण प्रदान करेगा।
  • निगम कृषि गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए बोरवेल के निर्माण पर कुल 1.5 लाख रुपये का खर्च वहन करने जा रहा है।

 




 

कर्नाटक गंगा कल्याण योजना के पात्रता मापदंड

  • आवेदक अल्पसंख्यक समुदाय से संबंधित होना चाहिए
  • आवेदक कर्नाटक का स्थायी निवासी होना चाहिए
  • उम्मीदवार छोटे या सीमांत किसान का होना चाहिए
  • शहरी क्षेत्रों में किसान की सभी स्रोतों से वार्षिक पारिवारिक आय 96000 रुपये प्रति वर्ष 1.03 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए
  • आवेदक की आयु 18 से 55 वर्ष के बीच होनी चाहिए

 

कर्नाटक गंगा कल्याण योजना के आवश्यक दस्तावेज

  • परियोजना रिपोर्ट
  • जाति प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • बीपीएल कार्ड
  • नवीनतम आरटीसी
  • सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी लघु एवं सीमांत किसान प्रमाण पत्र
  • बैंक पासबुक की कॉपी
  • भू-राजस्व भुगतान की रसीद
  • सेल्फ डिक्लेरेशन फॉर्म
  • ज़मानत से स्व-घोषणा पत्र

 




 

कर्नाटक गंगा कल्याण योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022

  • आपके सामने होम पेज खुलेगा
  • होमपेज पर आपको ऑनलाइन आवेदन पर क्लिक करना होगा

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022

  • उसके बाद आपको गंगा कल्याण योजना पर क्लिक करना है
  • अब आपके सामने आवेदन पत्र दिखाई देगा
  • इस आवेदन पत्र में आपको सभी आवश्यक विवरण दर्ज करने होंगे
  • अब आपको सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने होंगे
  • इसके बाद आपको अप्लाई पर क्लिक करना है
  • इस प्रक्रिया का पालन करके आप योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं

 




 

Login On The Portal

  • कर्नाटक गंगा कल्याण योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं
  • आपके सामने होम पेज खुलेगा
  • होमपेज पर आपको साइन इन पर क्लिक करना होगा

Karnataka Ganga Kalyana Scheme 2022

  • आपके सामने लॉगिन पेज दिखाई देगा
  • इस पेज पर आपको अपनी ईमेल आईडी, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालना है
  • इसके बाद आपको साइन इन पर क्लिक करना है
  • इस प्रक्रिया का पालन करके आप पोर्टल पर लॉग इन कर सकते हैं

 




 

Important Links

Official Website  Click Here
Online Apply Click Here
Login Click Here
Join Our Telegram Group Click Here

 




 

यह भी पढ़े 

 

 

सारांश 

मैं आशा करता हूँ की आपको मेरी यह जानकारी पसंद आई होगी , अगर आपको मेरी यह जानकारी पसंद आई होगी , तो आप इसे लाइक करे और अपने दोस्तों , फॅमिली और ग्रुप में जरुर शेयर करे ताकि उन्हें भी इसकी जानकारी मिल सके |

धन्यवाद !!!

 

Updated: 09/05/2022 — 8:18 PM

Leave a Reply

Your email address will not be published.